Friday, 12 February, 2010

इनके राम ऑफलाइन?

इनके राम भला ऑन लाइन क्यों न हों? अब ऑफ लाइन रहने से रामानन्दियों का संसार में गुजारा कैसे चलेगा? इसमें कोई संदेह नहीं कि वे सीधे-सादे और सहज हैं, लेकिन मुझे ऐसा लगा कि अध्ययन व ज्ञान-विज्ञान के बारे में समय के हिसाब से सिद्ध नहीं हैं। मेरा मानना रहा है कि भविष्य में वही साधु ध्यान धारा में अंगद की तरह पांव टिका पाएगा, जो पर्याप्त पढ़ा-लिखा होगा। भव सागर में राम नाम की अतुलनीय पतवार काम तो आएगी, लेकिन संघर्ष के समय नाव के पलटने या पलायन कर जाने की आशंका बनी रहेगी। ज्ञान का साम्राज्य भी रामानंदियों से भरा पूरा रहना चाहिए.
यह संप्रदाय बहुत पुराना है, लेकिन उसके जो प्रमुख केन्द्र हैं, उनके रखरखाव और वैभव में वृद्धि समय के हिसाब से नहीं है। जबकि कई दूसरे संप्रदाय या मठ कुछेक वर्ष पहले ही आए हैं, लेकिन मात्र बेहतर अध्ययन व तैयारी की वजह से चमकदार हो गए हैं, सबको नज़र आ रहे हैं, जबकि रामानन्द संप्रदाय अपनी सर्वकालिकता, गुणसंपन्नता, सज्जनता, पारंपरिकता व अटूट तपस्या व संघर्ष के बावजूद प्रचार से दूर है। कई नए-नए फिजूल के मठ ऑन लाइन हो गए, लेकिन यह राष्ट्र अनुकूल श्रेष्ठ मठ या संप्रदाय अभी भी ऑफ लाइन है। साधु होने का कदापि यह मतलब नहीं है कि जड़ हो जाया जाए। राम नाम जप रहे हैं और राज-पात ख़ाक हो रहा है। सच्ची साधुता इसमें है कि समाज की आवश्यकताओं के अनुसार स्वयं को परिवर्तित किया जाए। समाज के रक्षार्थ जीना और संघर्ष करना वही जानता है, जो सच्चा साधु है। यह बात साधुओं से बेहतर कौन जानता है। नागा साधु तो संघर्ष की सर्वश्रेष्ठ मिसाल रहे हैं।
ध्यान से सुना जाए, राम महाराज रामानन्दियों को ऑन लाइन धरा पर भी पुकार रहे हैं।

3 comments:

jinesh jain said...

Gyanesh ji,
Aapne sadhuo ki 'Kabiliat' Ko lekar achcha sawal uthaya. Aapki chinta se ham sahmat hain.

anant said...

Haquiqat me Ramanand Sampradaya Nirantar Prem Va Bhakti me jeeta hai aur us prem ko pradarshit karne ki avashyakta nahi hai. Atah bhale hi Ramanand Sampradaya OFF LINE hai magar vah prachar se pakhand se door hai.
Anant Lakhotia

ज्ञानेश उपाध्याय (gyanesh upadhyay) said...

Anant ji namaskar
aap khud to online nazar aa rahe hain, lekin aap apne sampraday ko online hote dekhna nahin chahte hain. yah kaisa bhedbhav hai?
aap to online ke maje lenge lekin sampraday nahin lega, kya jo online hota hai kewal prachar ke liye online hota hai. aaj ke daur mey online hona door duniya se judna hai. door duniya ko jaanana hai. aap agar chahte hain ki ramanand sampraday se door baithe log wanchit rahe to maaf kijiyega main aapki sarahana nahin karunga.
main ramanand sampraday ko online dekhna chahta hun aur hamesha chahunga.
aur prem va bhakti ke pradarshan ki baat bekar hai, na sacha prem chipta hai aur na sachi bhakti. pradarshan swatah hota rahta hai, hamaara kaam hona chahiye duniya ke kone-kone tak prem ki soochna pahuchaana. apne samay mey sri ram aur sri krisha aur ramanand ji ne yahi kiya tha.
jatiwaad aur atankwaad ke daur mey maaf kijiyega duniya mey jyadatar log swami ramanand ji ke baare mey kuch nahin jaante hain,
yah sampraday ke liye kisi najariye se khusi ki baat nahin hai. mujhe dukh hota hai, aur abhi bhi ho raha hai.
kaas mere paas itne paise hote ki main ramanand samprday ko online kar paata.
par jaisee raam ki ikcha.
jai sri ram